Friday , March 1 2024

“भादो मास अंधियारी जन्मे कृष्ण मुरारी ना…”

लोक चौपाल में चन्द्रयान और जन्माष्टमी पर परिचर्चा

कान्हा ने माई से मांगा चन्द्र खिलौना

लखनऊ (टेलीस्कोप टुडे संवाददाता)। लोक संस्कृति शोध संस्थान द्वारा आयोजित लोक चौपाल में वक्ताओं ने चन्द्रयान के सफल प्रक्षेपण के लिए इसरो के वैज्ञानिकों को बधाई दी और लोक में व्याप्त चन्द्रमा से जुड़े रोचक प्रसंगों पर अपने विचार रखे। रविवार को इन्दिरा नगर स्थित ईश्वरधाम मन्दिर परिसर में हुई चौपाल की अध्यक्षता संगीत विदुषी प्रो. कमला श्रीवास्तव ने की। वरिष्ठ लोक गायिकाओं पद्मा गिडवानी एवं विमल पन्त आदि की उपस्थिति में भगवान कृष्ण पर आधारित सांगीतिक प्रस्तुतियों में कान्हा ने मैया यशोदा से चन्द्र खिलौना की मांग की और मैया ने थाली में जल भरकर चन्द्र प्रतिबिम्ब दिखाया। 

विषय प्रवर्तन करते हुए लोक संस्कृति शोध संस्थान की सचिव सुधा द्विवेदी ने कहा कि चन्द्रमा पर बुढ़िया माई के होने, चन्द्रमा को मामा कहने, चन्द्रदेव की आराधना आदि की सुदीर्घ परम्परा लोक विश्रुत रही है। भारत ने चन्द्रमा के दक्षिण ध्रुव पर अपना यान सफलतापूर्वक उतार कर अन्तरिक्ष जगत में अपनी मेधा का परचम फहराया है। संगीत अध्येता एवं गायिका सौम्या गोयल ने श्रीकृष्ण को चन्द्र की सोलह कलाओं से युक्त पूर्ण अवतार बताते हुए सोलह कलाओं के बारे में बताया। आशुतोष कृष्णा ने कृष्ण लीला के विविध प्रसंगों पर चर्चा की।

चौपाल में कृष्ण भजनों की मनमोहक प्रस्तुतियां हुईं। वरिष्ठ लोक गायिका पद्मा गिडवानी ने नाचे नन्दलाल नचावें वाकि मैया, कुमाऊं कोकिला विमल पन्त ने भादो मास अंधियारी जन्मे कृष्ण मुरारी ना, नेहा प्रजापति, स्नेहा प्रजापति और स्मिता पाण्डेय ने बिरज में बाजत आज बधाई पर मनमोहक नृत्य किया। अन्तरा भट्टाचार्य के निर्देशन में अव्युक्ता, शीर्षा, अविका, मिहिका, कर्णिका, गुनाश्री आदि ने समवेत स्वर में कृष्ण भजनों की मनोहारी प्रस्तुति दी। मधु श्रीवास्तव ने ऐसे पनघट पे नैना लड़ी श्याम से, अंजलि सिंह ने मचले जायें श्याम कनिया से, रचना गुप्ता ने आज जन्मे हैं कुंवर कन्हैया हो ना, अर्चना गुप्ता ने मेरे गोपाल जी तुम कितने अनुपम, शशि वर्मा ने भज ले रे मना गोपाल गुना, सरिता अग्रवाल ने यशोमति मइया से बोले नंदलाला, कविता सिंह सक्सेना ने कृष्ण जन्म लिए जेल की कोठरिया में, देवेश्वरी पंवार ने चलो रे मन गंगा जमुना तीर, लक्ष्मी जोशी ने बाजी बाजी बधाई झनकार, प्रियंका दीक्षित ने प्रभु फिर लीला करत जमुना के तीरे, चित्रा जायसवाल ने आज जन्मे हैं, रेखा अग्रवाल ने पटकी मेरी पटकी माखन मटकी, केजीएमयू नेत्र रोग विभाग की पूर्व विभागाध्यक्ष प्रो. विनीता श्रीवास्तव ने एक बार फिर कन्हैया अवतार लो धरा पर, सुषमा प्रकाश ने यशोदा के भये नन्दलाल, शारदा पाण्डेय और गीता शुक्ला ने सोने के कटोरिया में दूध भात, एसएन सिंह ने नंद द्वारे, नीरा मिश्रा ने अरे कान्ह लिहिन अवतार जसोदा जी के अंगना, इन्दू सारस्वत ने नंद घर आनंद भयो जय कन्हैया लाल की, संगीता खरे ने हमारे मुरली वाले श्याम बधैया बाजे सुनाया। ज्योति किरन रतन एवं भूषण अग्रवाल ने मनमोहक नृत्य किया। इस अवसर पर राजनारायण वर्मा, मीनाक्षी अग्रवाल, दिलीप श्रीवास्तव, इंजी. दिनेश श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे।