Saturday , May 25 2024

किताबों के बीच चल रहा साहित्यिक, सांस्कृतिक आयोजनों का क्रम

जी-20 की थीम पर रवीन्द्रालय चारबाग में लखनऊ बुक फेयर

लखनऊ। बिदली से भीगा शनिवार का दिन पुस्तक प्रेमियों के लिए सुखद रहा। यहां रवीन्द्रालय चारबाग में कल से प्रारम्भ हुए मेले में शाम भी काफी रौनक भरी रही। निःशुल्क प्रवेश वाले मेले में बुजुर्गों की रुचि आध्यात्मिक, महिलाओं की रुचि साहित्यिक, युवाओं की किस्से कहानियों के साथ पाठ्यक्रम की सहायक पुस्तकों में तो बच्चों की रुचि रंगबिरंगी किताबों और खिलौनों में रही।   

जी-20 की थीम पर 26 मार्च तक सुबह 11 बजे से रात नौ बजे तक चलने वाले मेले में ओशो तपोवन के स्टाल में लगभग अलग-अलग विषयों पर 200 पुस्तकें अच्छी मात्रा में हैं। स्वामी शशिकांत बताते हैं आश्रम काठमांडू 29 वर्षों में 175 किताबें प्रकाशित की हैं। 10 किताबें नेपाली भाषा में हैं। नेपाल में बड़ी संख्या में लोग ओशो के अनुयायी हैं। सुभाष बुक स्टोर में अनेक चर्चित पुस्तकों के साथ भारतीय ज्ञानपीठ और वाणी प्रकाशन समेत प्रमुख हिन्दी प्रकाशकों की पुस्तकें बड़ी तादाद में हैं और हिंदी किताबों पर वह 20 प्रतिशत की छूट दे रहे हैं। नेशनल बुक ट्रस्ट, एमटीजी लर्निंग, बोधरस प्रकाशन, पदम बुक्स, रितेश बुक, मुक्ता बुक, बीएफसी पब्लिकेशन्स, दि जूनियर एज के स्टालों पर भी भीड़ रही। संयोजक मनोज चंदेल ने बताया कि हर पुस्तक पर कम से कम 10 प्रतिशत छूट दी जा रही है जबकि बहुत से स्टालों पर 30 और कहीं 50 प्रतिशत तक की छूट भी मिल रही है। 

मेले में आज शाम जन संस्कृति मंच की ओर से तस्वीर नक़वी की अध्यक्षता में विमल किशोर के काव्य संग्रह पंख खोलूं उड़ चलूं का विमोचन हुआ। मुख्य वक्ता के तौर पर उषा राय ने संग्रह पर बात रखी। साथ ही अलका पांडेय, इंदु पाण्डेय, विमल किशोर, उषा राय, तस्वीर नक़वी आदि ने कविताओं का पाठ किया। इसी क्रम में उत्कर्ष प्रतिष्ठान और हरेला बाखई ग्रुप के संयुक्त संयोजन में रमाशंकर सिंह, तमाचा लखनवी, हरीश लोहुमी, हरीश गोपाल व मनोज मिश्र से काव्यपाठ किया तो तनु खुल्बे के निर्देशन में फूलदेही और विभा नौटियाल के निर्देशन और रुचिका सहाय व साक्षी त्रिपाठी को कोरियाग्राफी में नृत्यनाटिका नारी शक्ति की मनोहारी प्रस्तुति हुई। अंजना उपाध्याया के संचालन में ललिता जोशी ने गीत व भजन पेश किये तो पूनम बिष्ट ने नृत्य की खूबसूरत प्रस्तुति दी। इससे पहले सुबह बच्चों और युवाओं ने गीत, संगीत नृत्य आदि की अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। आभूषण काव्यात्मक अभिव्यक्ति ग्रुप के सौजन्य से अलका गुप्ता प्रियदर्शिनी’ के संयोजन और पद्मश्री विद्याविन्दु सिंह की अध्यक्षता में आयोजित काव्य समारोह में श्वेता सिंह, डा. जहांआरा गुल, डा. अनुराधा पान्डेय अन्वी, साधना मिश्रा विंध्य, सरोज वाला सोनी, पूर्णिमा जी, डा. सुधा, तस्वीर नकवी, कामिनी श्रीवास्तव आदि ने रचनाएं पढ़ीं। अतिथियों के तौर पर अयोध्या के डा. आरके मतंग अयोध्या और जपपुर के श्रीकांत तैलंग उपस्थित रहे। रहकर अपना आशीर्वाद सभी को प्रदान किया। शाम को मंच पर वैष्णवी और वाणी समूह के बाल व नवयुवा कलाकारों ने मोहक प्रस्तुति दी। 

फोर्स वन बुक्स के साथ ज्वाइन हैण्ड्स फाउण्डेशन, किरन फाउण्डेशन, ओरिजिन्स, ट्रेड मित्र आदि के सहयोग से हो रहे मेले में कल सुबह 11 बजे सुरभि कल्चरल ग्रुप द्वारा बाल रत्न सम्मान, डेढ़ बजे नृत्यांगन की बाल प्रस्तुतियां होंगी। तीन बजे संजय जायसवाल के लघु उपन्यास अपराजिता पर, शाम पांच बजे पुस्तक कामयाब कैसे बने और शाम छह बजे लड़कियां बड़ी लड़का होती हैं किताब पर चर्चा होगी। शाम सात बजे लक्ष्य संस्था का सम्मान समारोह व काव्यगोष्ठी का आयोजन किया गया है।