Monday , July 15 2024

दिव्यांगजनों की मेडिकल जांच संग काव्य पाठ से गुलजार हुआ उत्तर प्रदेश महोत्सव

लखनऊ (टेलीस्कोप टुडे संवाददाता)। सृजन फाउंडेशन द्वारा जानकीपुरम विस्तार में आयोजित 21 दिवसीय 8वें उत्तर प्रदेश महोत्सव के छठे दिन सोमवार को अध्यक्ष डॉ. अमित सक्सेना, डॉ. अर्चना सक्सेना, राजेश राज गुप्ता, पंकज तिवारी, रोमा श्रीवास्तव, शैलेन्द्र मोहन, अजय यादव, स्वाति जैन, पारुल श्रीवास्तव, वीरेंद्र बहादुर श्रीवास्तव व महोत्सव पदाधिकारियों ने हनुमानजी का पूजन व दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम की शुरुआत की।

महोत्सव में दिव्यांगजनों के लिए मंगलम संस्थान द्वारा स्वर्गीय कृपा नारायण जी के 100वी जन्म शताब्दी समारोह के उपलक्ष में कैंप का आयोजन किया। जिसमें कृत्रिम अंग, डेंटल व कान की निशुल्क जांच की गई। संस्था के पदाधिकारी संजीव सक्सेना व मेजर के. किशोर ने बताया कि कैंप में 50 से ज्यादा डेंटल के मरीज व कान के तकरीबन 20 से ज्यादा मरीज ने अपना फ्री चेकअप करवाया। उन्होंने बताया कि अगला कैंप 25 जनवरी को फिर से लगाया जाएगा जिसमें लखनऊ शहर के दिव्यांगजनों को निशुल्क कृत्रिम अंग देने के लिए उनकी जांच की जाएगी तथा डेंटल और कान के मरीज भी इस कैंप में आकर अपना चेकअप करवा सकते हैं।

वहीं महोत्सव में कवियों की सुरमई वाणी से शाम गुलजार हुई जो की नवोदय साहित्यिक एवं सांस्कृतिक मंच वह सुरांजलि सांस्कृतिक संस्था द्वारा आयोजित किया गया। आज के कवि सम्मेलन में 22 तारीख को अयोध्या में श्री राम जी की प्राण प्रतिष्ठा का गुड़गान कवियों ने अपनी श्री मुख से किया। कवि सम्मेलन में नवोदय के सभी कवियों ने काव्य पाठ किया और एक से बढ़कर एक मंत्र मुक्त कर देने वाली कविताएं पढ़ी। डॉक्टर अजय प्रसून, प्रवीण पांडे, आलोक यादव, महेश गुप्ता, अतर सिंह यादव, गोपाल ठहाका, प्रशांत त्रिपाठी, विभा प्रकाश, शीला वर्मा, मीरा, महेश प्रकाश अस्थाना व कवि नीलेश ने अपनी रचनाएं प्रस्तुत की।

 इसके बाद स्वरांजलि सांस्कृतिक संस्था वह नवोदय साहित्यिक एवं सांस्कृतिक मंच द्वारा रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए। जिसमें इंजीनियर दिनेश कुमार श्रीवास्तव व साथियों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुतियां दें। फिल्मी गानों, रचनाओं को लेकर रज्जन लाल, विनोद वर्मा, सुनील गुप्ता, प्रज्ञा श्रीवास्तव, शीला वर्मा, आनंद वर्मा व गीता शर्मा ने अपनी एक से एक बढ़कर रचनाएं प्रस्तुत की। रचनाओं को सुनकर महोत्सव में आए दशकों में तालिया की गड़गड़ाहट से सर्द मौसम में गर्मी आ गई।

महोत्सव के आयोजक डॉक्टर अमित सक्सेना ने बताया कि उत्तर प्रदेश समेत देश की संस्कृति को समेटे इस महोत्सव में सभी राज्यों की कलाकृतियां उनकी प्रमुख वस्तुएं तथा सभी राज्यों की प्रमुख खाने पीने की चीजों के स्टॉल लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र बने है। जैसे-जैसे महोत्सव आगे बढ़ रहा है लोगों की भीड़ भी बढ़ती जा रही है।