Tuesday , March 5 2024

18 कमिश्नरी में शुरू हुए अटल आवासीय विद्यालय, अब 57 जिलों में भी की जाएगी शुरुआत : सीएम योगी

– ‘अटल आवासीय विद्यालय गुरूवार्ता संगम’ कार्यक्रम में छात्र-छात्राओं को सीएम योगी ने वितरित की स्कूली किट, परिचायिका व वेबसाइट भी की लॉन्च

गुरूकुल की तर्ज पर आधुनिक शिक्षा के साथ ही भारतीय मूल्यों का संवर्धन करेंगे अटल आवासीय विद्यालय : सीएम योगी

– विद्यालय परिसर को स्वच्छ रखने, सुविधाओं का समुचित इस्तेमाल करने के साथ ही बच्चों में कौशल विकास को लेकर सीएम योगी ने टीचर्स को दिए टिप्स

– अटल आवासिय विद्यालय श्रमिकों व निराश्रित बच्चों के लिए आधुनिक शिक्षा व भारतीयता के मूल्यों से ओत-प्रोत कौशल विकास केंद्र के रूप में करेंगे काम: योगी आदित्यनाथ

– पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी के सपनों, पंडित दीन दयाल उपाध्याय की विचारधारा और पीएम मोदी के विजन को साकार करेंगे अटल आवासीय विद्यालयः सीएम

लखनऊ (टेलीस्कोप टुडे संवाददाता)। भारत के भूतपूर्व प्रधानमंत्री व भारत रत्न से सम्मानित अटल बिहारी वाजपेयी का सपना था कि देश के निम्न आय वर्ग के लोगों तक भी वर्ल्ड क्लास इंफ्रास्ट्रक्चर्स और सुविधाओं तक पहुंच हो। पंडित दीनदयाल उपाध्याय की विचारधारा व अंत्योदय की प्रेरणा को साकार करने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी की प्रेरणा से उत्तर प्रदेश में 18 अटल आवासीय विद्यालयों की शुरुआत की जा रही है। यह विद्यालय न केवल श्रमिकों, निराश्रितों व वंचित वर्ग के बच्चों के लिए शिक्षा का सपना साकार करने वाला कदम होगा बल्कि गुरुकुल परंपरा के मूल्यों को साथ लेकर भारतीय मूल्यों का संवर्धन कर युवाओं की एक ऐसी पौध विकसित करेगा जो पूरी दुनिया में भारत के सच्चे मूल्यों के ध्वजवाहक बनेंगे। यह बातें सीएम योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को लोकभवन सभागार में आयोजित ‘अटल आवासीय विद्यालय गुरूवार्ता संगम’ कार्यक्रम में टीचरों व स्टूडेंट्स् से संवाद करते हुए कहीं।

उन्होंने कहा कि फिलहाल प्रदेश के 18 संभागों में 6वीं से 12 क्लास के मध्य सीबीएसई पैटर्न पर संचालित होने वाले 12 से 15 एकड़ में फैले वर्ल्ड क्लास फैसिलिटीज युक्त अटल आवासीय विद्यालय न केवल स्टूडेंट्स के कौशल विकास का केंद्र बनेंगे, बल्कि देश की उन्नति में योगदान देने वाले श्रमिकों, वंचितों व निराश्रितों के बच्चों के लिए शिक्षा के साथ ही समेकित विकास का मार्ग प्रशस्त करेंगे। इसे अब जल्द ही 57 जिलों में भी शुरू किए जाने की तैयारी है। इस अवसर पर सीएम योगी ने अटल आवासीय विद्यालय के लिए चयनित स्टूडेंट्स को स्कूली किट वितरित करते हुए उन्हें व्यक्तिगत तौर पर भविष्य के लिए शुभकामनाएं दीं। इसके अतिरिक्त अटल आवासीय विद्यालय की परिचायिका व अटल आवासीय विद्यालय से जुड़ी वेबसाइट http//www.atalvidyalaya.org की लॉन्चिंग भी की। 

लकीर का फकीर नहीं, अभिनव प्रयोग करना होगा

सीएम योगी ने कार्यक्रम में 18 अटल आवासीय विद्यालयों के प्रिंसिपल्स, 130 चयनित टीचर्स, 137 आउटसोर्सिंग स्टाफ व 848 एमटीएएस समेत कनिष्ठ कार्मिकों को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना काल मे जिन बच्चों ने अभिभावकों को खोया है उनके लिए हमने बाल सेवा योजना शुरू की। उन्हे भी इसमें प्रवेश का लाभ दिया जायेगा। अटल जी कहा करते थे कि आदमी न बड़ा होता है, न छोटा होता है, आदमी सिर्फ आदमी होता है। श्रमिक राष्ट्र का निर्माता है। वह अपनी मेहनत पसीने से राष्ट्र के निर्माण मे सहयोग देता है, लेकिन उसकी जिंदगी खानाबदोश होती है। आज यहां, कल कही और होगा, उसके पीछे उसके बच्चे भी ऐसे ही सफर करते हैं। इन्हीं बच्चों के लिए ये अटल आवासीय विद्यालय हैं। यहां से 6 वर्ष बाद जब स्टूडेंट्स बाहर निकलेंगे तो स्वावलंबी, आत्मनिर्भर होकर निकलें, यही लक्ष्य है। टीचर्स को इसे सुनिश्चित करना होगा और ऐसा करने के लिए नए प्रयास करने होंगे। याद रखिए, हमको लकीर का फकीर नही बनना है, हमको अभिनव प्रयोग करना होगा।

आत्मनिर्भरता बनेगी सफलता की कुंजी

सीएम योगी ने कहा कि हमारी समस्या यह है कि हर व्यक्ति दूसरे पर निर्भर हो जाता है। सरकार संस्थान तो निर्माण करवा देती है और सुविधा देती है लेकिन उसका उपभोग करने वाले पानी की टोंटी बंद नही करते। यह कहने का आशय है, उपभोग करने वालों को भी अपनी जिम्मेदारी निभानी चाहिए। बिल्डिंग बहुत भव्य बनी हो लेकिन उसकी देखरेख, रखरखाव के अभाव में भवनों पर पेड़ उग आते हैं। ऐसे ही भवन खंडहर हो जाते हैं। टीचर्स को ये सुनिश्चित करना होगा। साथ ही, स्वच्छता, शुचिता और परिसर को पूर्णतः व्यसन मुक्त करना सुनिश्चित करना होगा तभी स्टूडेंट्स का समेकित विकास संभव हो पाएगा। उन्होंने कहा, अनुशासन आवश्यक है, अनुशासनहीनता किसी भी स्तर पर नहीं होगी तो एक आदर्श स्थिति की नींव पड़ेगी जो आगे चलकर उदाहरण बनेगी। सीएम योगी ने कहा कि खेलकूद निबंध व अन्य प्रतियोगिताएं होनी चाहिए, तभी आप कुछ नया दे पाएंगे। देश समाज मे क्या घटित हो रहा है व शासन की नई योजनाए क्या है, इसकी जानकारी होना आवश्यक है। छात्रों को लाइब्रेरी की ओर प्रेरित करना है। इसके अतिरिक्त आवासीय कैम्पस में राष्ट्रीय धार्मिक पर्वो पर प्रधानाचार्य, अध्यापकों को बच्चों को एक स्पीच के माध्यम से जानकारी देकर सांस्कृतिक व व्यवहारिक मूल्यों के संवर्धन पर बल देना होगा।

इस अवसर पर श्रम एवं सेवायोजन राज्यमंत्री मनोहर लाल मन्नू कोरी, चीफ सेक्रेटरी दुर्गा शंकर मिश्र, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त मनोज कुमार सिंह, श्रम व रोजगार विभाग के प्रमुख सचिव अनिल कुमार, मोहनलालगंज के विधायक अमरेश कुमार व अटल आवासीय विद्यालय की महानिदेशक निशा आनंद प्रमुख रूप से उपस्थित रहे। 

प्रिंसिपल्स व बच्चों ने जताया सीएम का आभार

अटल आवासीय विद्यालय बुलंदशहर (मंडल मेरठ) की प्रिंसिपल अमर कौर ने कहा कि अटल आवासीय विद्यालयों की स्थापना समाज के वंचित समाज के बच्चों के लिए शिक्षा का वरदान है। वहीं, अटल आवासीय विद्यालय लखनऊ के प्रिंसिपल सुखबीर सिंह ने कहा कि यह सीएम योगी का ड्रीम प्रोजेक्ट है। इसमें पंजीकृत श्रमिकों के बच्चे एंट्रेस एग्जाम के जरिए प्रवेश पाएंगे। कोरोना काल में माता-पिता को गंवाने वाले बच्चों को भी इन विद्यालयों में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा वर्ल्ड क्लास फैसिलिटी युक्त फ्री एजुकेशन दी जाएगी। छात्र-छात्राओं के लिए अलग छात्रावास युक्त ये विद्यालय नवोदय विद्यालय की तर्ज पर उससे भी आगे बढ़कर बच्चों को संस्कारवान नागरिक बनाएंगे। वहीं, सीएम योगी से स्कूल यूनिफॉर्म, ट्राउजर्स, कुर्ता, मच्छरदानी, किताबें व बैग, चॉकलेट प्राप्त कर बच्चों के चेहरे खिल उठे। सीएम से किट प्राप्त करने वालों में स्टूडेंट्स में सना बानो, मंजू राजभर, आलोक कुमार व अन्य शामिल रहे। सभी ने सीएम योगी का आभार जताते हुए प्रसन्नता व्यक्त की।