Tuesday , July 16 2024

कीमोथेरेपी के अत्यधिक उपयोग से शारीरिक और वित्तीय हानि होती है : डॉ. मंजिरी

प्रौद्योगिकी दुनिया के भविष्य को दर्शाती है

लखनऊ। सीएसआईआर-सीडीआरआई ने भारत के वैज्ञानिकों, इंजीनियरों, शोधकर्ताओं के सम्मान और उनकी उपलब्धियों को याद करने के लिए सोमवार को 25वां राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस मनाया। जिसका विषय “एक सतत भविष्य के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी में एकीकृत दृष्टिकोण” था। इस अवसर पर सीएसआईआर-सीडीआरआई की निदेशक डॉ. राधा रंगराजन ने मुख्य अतिथि डॉ. मंजिरी बाकरे और डॉ. धनंजय देंदुकुरी का स्वागत किया। अपने स्वागत भाषण में उन्होंने कहा कि प्रौद्योगिकी दुनिया के भविष्य को दर्शाती है क्योंकि प्रौद्योगिकी जीवन के प्रत्येक पहलू में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, चाहे वह औषधि अनुसंधान हो या मानव संसाधन विकास के किसी भी क्षेत्र में हो। उन्होंने कहा कि वर्ष 1999 में प्रथम राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस के अवसर पर तत्कालीन प्रधान मंत्री अटल बिहारी बाजपेयी ने सीएसआईआर-सीडीआरआई की लोकप्रिय मलेरिया-रोधी दवा, अल्फा-बीटा आर्टीथर को मार्केट में लांच किया था। इस अवसर पर मंच पर उपस्थित गणमान्य व्यक्तियों द्वारा संस्थान की वार्षिक रिपोर्ट का विमोचन भी किया गया। कार्यक्रम के समन्वयक, डॉ. अतुल गोयल और डॉ. आशीष अरोड़ा ने वक्ताओं का परिचय दिया। 

कीमोथेरेपी के अत्यधिक उपयोग से शारीरिक और वित्तीय हानि होती है : डॉ. मंजिरी

डॉ. मंजिरी बाकरे (ओंकोस्टेम डायग्नोस्टिक्स लिमिटेड की संस्थापक सीईओ) ने प्रौद्योगिकी दिवस पर बहुत ही महत्वपूर्ण विषय पर व्याख्यान दिया। जिसका शीर्षक था, “क्या हर ब्रेस्ट कैंसर रोगी को कीमोथेरेपी की आवश्यकता होती है? मेड इन इंडिया, नव-पद्धति परीक्षणों की निर्णय लेने में भूमिका”। डॉ. मंजिरी बाकरे ने कीमोथेरेपी की प्रासंगिकता पर सवाल उठाया। उन्होंने बताया कि ब्रेस्ट कैंसर के 95% रोगी कीमोथेरेपी से गुजरे हैं, जबकि मात्र 15% रोगियों को ही इसकी आवश्यकता होती है तथा इससे लाभ ले पाते हैं। कीमोथेरेपी के अत्यधिक उपयोग से शारीरिक और वित्तीय हानि  होती है। अतः इस कीमोथेरेपी की प्रक्रिया को अपनाने से पहले व्यक्ति को उचित रोगनिदान परीक्षण (प्रोग्नोस्टिक्स) और वैकल्पिक तरीकों पर भी ध्यान देना चाहिए।

उन्होंने बताया कि इस जरूरत को पूरा करने के लिए उन्होंने व्यक्तिगत कैंसर उपचार योजना के लिए नवीन, लागत प्रभावी (किफायती) एवं विश्वसनीय परीक्षणों को विकसित करने और उसके वितरण करने की आकांक्षा से अपनी स्टार्टअप कंपनी ओन्कोस्टेम की स्थापना की थी। उनकी टीम का उत्पाद “कैनअसिस्ट-ब्रेस्ट (सीएबी)”, स्तन कैंसर रोगियों के लिए एक प्रमुख रोग निदान परीक्षण उत्पाद है जो पिछले 6 वर्षों से भारत और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बेचा जा रहा है। उनका दावा है कि कैनअसिस्ट-ब्रेस्ट टेस्ट से भारत में करीब 70 फीसदी कैंसर मरीजों को फायदा हो सकता है जिससे कीमोथेरेपी के दुष्परिणामों से बचा जा सकता है।

कोविड के बाद की दुनिया में माइक्रोफ्लुइडिक प्रौद्योगिकी, प्वाइंट ऑफ केयर टेस्टिंग में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगी: डॉ. धनंजय

अचिरा लैब्स प्राइवेट लिमिटेड के सह-संस्थापक और सीईओ डॉ. धनंजय देंदुकुरी ने कोविड के बाद की दुनिया में माइक्रोफ्लूडिक प्रौद्योगिकियों के माध्यम से देखभाल परीक्षण के बिंदु (पॉइंट ऑफ केयर) में तेजी से प्रगति पर अपने विचार साझा किए। उन्होंने उल्लेख किया कि माइक्रोफ्लूडिक प्रौद्योगिकियां सरल एवं सस्ती परीक्षण समाधान के रूप में उभरी हैं जो आज की आवश्यकता को पूरा करने में सक्षम हैं। उन्होने आगे बताया की उनकी टीम द्वारा तैयार माइक्रोफ्लुइडिक्स आधारित तकनीक इस संबंध में बहुत उपयोगी है क्योंकि इसमे मरीज के नमूने की बहुत ही कम मात्रा की आवश्यकता होती है (केवल 3 माइक्रोलीटर नमूना पर्याप्त है) साथ ही अभिकर्मक (रिएजेंट्स) की भी कम मात्रा में ही आवश्यकता होती है। जिससे परीक्षण की लागत भी कम हो जाती है। इस तकनीक में एक ही कार्ट्रिज पर सेल सेपरेशन, मिक्सिंग एवं रीडआउट जैसी अनेक प्रक्रियाएं संभव हो जाती है जिस से इसकी कार्यक्षमता बढ़ जाती है जिसके कारण इसका उपयोग करना बहुत आसान हो जाता हैं। उन्होने बताया की भारत में इस नई तकनीक के लिए एक बड़ा उभरता हुआ बाजार एवं अपार संभावनाएं हैं। कार्यक्रम का समापन डॉ. संजीव यादव द्वारा अतिथियों का आभार व्यक्त करने के साथ ही राष्ट्रगान से हुआ।