Thursday , May 23 2024

ऋषि का सद्ज्ञान व्यक्ति को नर से नारायण बना सकता है – उमानंद शर्मा

वृन्दावन पब्लिक स्कूल में 388वाँ युगऋषि ऋषि वाङ्मय की स्थापना

लखनऊ। गायत्री ज्ञान मंदिर इंदिरा नगर के विचार क्रान्ति ज्ञान यज्ञ अभियान के अन्तर्गत ‘‘वृन्दावन पब्लिक स्कूल, बिरूरा गाँव, निकट वृन्दावन कालोनी के केन्द्रीय पुस्तकालय में गायत्री परिवार के संस्थापक युगऋषि पं. श्रीराम शर्मा आचार्य द्वारा रचित सम्पूर्ण 79 खण्डों का 388वाँ ऋषि वांड़मय की स्थापना कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। उपरोक्त साहित्य गायत्री परिवार रचनात्मक ट्रस्ट के सक्रिय कार्यकर्ता हंस कुमार ने अपने पूर्वजों की स्मृति में भेंट किया। वहीं उमानंद शर्मा ने छात्र-छात्राओं एवं संकाय सदस्यों को अखण्ड ज्योति पत्रिका भेंट की। 

इस अवसर पर वाङ्मय स्थापना अभियान के मुख्य संयोजक उमानंद शर्मा ने कहा कि ‘‘ऋषि का सद्ज्ञान व्यक्ति को नर से नारायण बना सकता है’’ विभूतिवान प्रतिभाओं को इस क्षेत्र में सक्रिय भूमिका निभानी चाहिये। इस अवसर पर संस्थान के मार्गदर्शक शिव मंगल यादव, प्रबन्धक नीरज यादव, उषा सिंह ने अपने विचार रखे। प्रधानाचार्या नेहा निगम ने धन्यवाद ज्ञापन किया। इस अवसर पर उमानंद शर्मा, ऊषा सिंह, शिवम एवं संस्था के मार्गदर्शक शिवमंगल यादव, प्रबन्धक नीरज यादव, प्रधानाचार्या नेहा निगम, उपप्रधानाचार्या पल्लवी सिंह एवं विज्ञान शिक्षिका ज्योति शर्मा, सहित छात्र-छात्रायें, शिक्षक-शिक्षिकायें मौजूद थे।