Sunday , March 3 2024

IIT कानपुर : 1500 से अधिक युवा प्रतिनिधियों ने किया प्रतिभाग

 यूथ20 कंसल्टेशन में सस्टैनबल टेक्नोलॉजीज, फ्यूचर ऑफ वर्क और स्वास्थ्य पर विचार-विमर्श कार्यक्रम का केंद्र बिंदु रहा

• आई आई टी (IIT) कानपुर में Y20 कंसल्टेशन में भारत और विदेश के 1500 से अधिक युवा प्रतिनिधियों ने भाग लिया

कानपुर। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) यूथ20 कंसल्टेशन के लिए एकत्र हुए सैकड़ों युवाओं के उत्साह से गूंज उठा। भारत के जी20 प्रेसीडेंसी के तहत आयोजित इस कंसल्टेशन की मेजबानी 5-6 अप्रैल को आईआईटी कानपुर में की गई। कानपुर मंडलायुक्त डॉ. राज शेखर ने कार्यक्रम का उद्घाटन किया और मुख्य अतिथि के रूप में प्रतिनिधियों और प्रतिभागियों को संबोधित किया। Y20 कंसल्टेशन में भारत और विदेश के 1500 से अधिक युवा प्रतिनिधियों ने भाग लिया।     

इस कार्यक्रम में बोलते हुए कानपुर मंडलायुक्त डॉ. राज शेखर ने कहा कि Y20 कंसल्टेशन जैसे आयोजन ग्राउंड ब्रेकिंग हैं क्योंकि यह भारत के लिए एक आत्मनिर्भर और टिकाऊ मार्ग प्रशस्त करता है। जो मानव शक्ति सेवाओं और प्रौद्योगिकी का निर्यात करने में सक्षम बनाता है। यह युवाओं की प्रतिभा को सुधारने में भी मदद करता है जो देश की 65% आबादी का हिस्सा हैं। उन्होंने कहाकि आईआईटी कानपुर जैसे संस्थान राष्ट्र के विकास के लिए महत्वपूर्ण हैं क्योंकि यह एक सक्षम वातावरण प्रदान करता है।  

आईआईटी कानपुर के निदेशक प्रोफेसर अभय करंदीकर ने कहा, “भारत अब ‘अमृत काल’ के अगले 25 वर्षों में प्रवेश कर चुका है और यह बहुत उपयुक्त समय है कि हमने जी20 की अध्यक्षता संभाली है। पिछले छह दशकों के दौरान, आईआईटी कानपुर सबसे आगे रहते हुए, हर क्षेत्र में प्रौद्योगिकी और नवाचार चला रहा है। हमारे पास एक मजबूत अनुसंधान और नवाचार पारिस्थितिकी तंत्र है, जिसने बड़ी संख्या में स्टार्ट-अप्स को इनक्यूबेट किया है और जो तेजी से प्रौद्योगिकी-संचालित दुनिया में फ्यूचर ऑफ वर्क को आगे बढ़ा रहा हैं। उन्होंने कहा कि “फ्यूचर ऑफ हेल्थ”, “टेक्नोलॉजीज फॉर सस्टैनबल फ्यूचर” और “इनोवैशन इन फ्यूचर ऑफ वर्क” पर विचार-विमर्श, भविष्य के लिए विस्तृत दृष्टिकोण रखते हैं और मुझे उम्मीद है कि यहां युवा प्रतिनिधियों द्वारा सांझा किये गए विचार वैश्विक स्तर पर दूरगामी प्रभाव डालेंगे।   

Y20 कंसल्टेशन के दौरान इंटरैक्टिव विचार-विमर्श ने टेक्नोलॉजीज फॉर सस्टैनबल फ्यूचर, इंडस्ट्री 4.0 और उन प्रौद्योगिकियों पर जोर दिया, जो फ्यूचर ऑफ वर्क, फ्यूचर ऑफ एजुकेशन के साथ-साथ फ्यूचर ऑफ हेल्थ को प्रभावित करेगा। विशेषज्ञों और उद्यमियों से युक्त सम्मानित पैनल ने नवाचार और प्रौद्योगिकी के मुख्य डोमेन में भारत की यात्रा पर प्रकाश डाला कि कैसे वैश्विक स्तर पर हम सामूहिक उपायों से प्रभाव डाल सकते हैं।

आयोजन के मेजबान के रूप में आईआईटी कानपुर ने 50 से अधिक स्टालों के साथ एक भव्य प्रदर्शनी का आयोजन किया। जिसमें विविध तकनीकों और नवाचारों को प्रदर्शित किया गया, जो जमीनी स्तर पर भी प्रभाव डाल सकते हैं। प्रदर्शनी में कम लागत वाले उपकरणों, नवाचारों और प्रौद्योगिकियों की अधिकता प्रदर्शित की गई। हिंदुस्तानी और कर्नाटक शास्त्रीय संगीत के साथ एक सांस्कृतिक संध्या ने आई आई टी कानपुर में Y20 कंसल्टेशन का समापन किया।