Wednesday , April 24 2024

प्रदर्शन के साथ सिखायीं गईं कटे तालू और दंत चिकित्सा की नयी तकनीकें

इण्डियन ऑर्थोडॉण्टिक सोसायटी का 26वां सम्मेलन दूसरा दिन

लखनऊ। उतरेटिया रायबरेली रोड स्थित सरदार पटेल पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ डेंटल एंड मेडिकल साइंसेज में गुरुवार से प्रारम्भ हुए 26वें इण्डियन ऑर्थोडॉण्टिक सोसायटी नेशनल पीजी कन्वेंशन में दूसरे दिन शुक्रवार को देश-विदेश से आए स्नातकोत्तर विद्यार्थियों ने बिना तार लगाए ब्रेसेज और अनाइनर्स के साथ ही टेढ़े मेढ़े दांतों, कटे तालू और दांतों को सही करने की तकनीकें विशेषज्ञ चिकित्सकों से सीखी और समझीं।19 फरवरी तक चलने वाले इस वृहत् आयोजन का औपचारिक उद्घाटन 18 फरवरी को संस्थान में मध्याह्न 12 बजे उपमुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री ब्रजेश पाठक करेंगे। इस अवसर पर संस्थान के इण्डियन ऑर्थोडॉण्टिक सोसायटी के अध्यक्ष बलविंदर समेत अधिकांश पदाधिकारी समारोह में उपस्थित रहेंगे। 

आयोजन के चेयरमैन डा. सुधीर कपूर ने बताया कि विद्यार्थियों ने आज सम्मेलन में दंत चिकित्सा की नई तकनीकें और बारीकियों को जानने के साथ ही जो टेढ़े दांतों को सीधा करने और बाहर उभरे हुए दांतों को नये उपायों और तकनीक से अंदर करने की बारे में विस्तृत जानकारी हासिल की और सवाल करते हुए उत्तर पाकर अपनी जिज्ञासा भी शांत की। बच्चों के कटे तालू के एप्लायेंसेज तैयार करने के लिए प्लास्टिक सर्जन व विशेषज्ञों के साथ किस तरह काम करके इलाज किया जाए, यह भी पीजीआई चण्डीगढ़ और दिल्ली कॉलेज के सिद्धहस्त चिकित्सकों के प्रदर्शन और चर्चा से सीखा। कल की तरह आज भी ऑर्थोडॉन्टिक्स विशेषज्ञों ने सात नये प्री कन्वेंशन पाठ्यक्रम प्रस्तुत किये। इनमें पुणे, चेन्नई, दिल्ली आदि के प्रोफेसर व चिकित्सक शामिल रहे। इन विशेषज्ञों ने चर्चा-परिचर्चा में शोध करने वाले विद्यार्थियों को बताया कि विषय चुनने से लेकर शोध करने और उसे प्रस्तुत करने में वे क्या सावधानियां बरतें और कैसे आने वाली समस्याओं को सुलझाएं। आज भी विद्यार्थियों ने प्रतिभाग कर प्रतिस्पर्धी और गैर-प्रतिस्पर्धी दोनों ही श्रेणियों में पेपर और टेबल क्लिनिक प्रस्तुतियां दीं।