Sunday , March 3 2024

राममय माहौल में निकली भव्य शोभायात्रा, जमकर झूमे भक्त, दिखा अदभुत नजारा

भक्तों ने किए प्रभु श्रीराम के बालरूप के दर्शन

आकर्षण का केंद्र रहीं झांकियां, आरती व पुष्पवर्षा कर किया स्वागत

लखनऊ (शम्भू शरण वर्मा/टेलीस्कोप टुडे)। आगे चल रहे ऊंट, रथों पर सवार प्रभु श्रीराम, माता सीता, लक्ष्मण, भरत, शत्रुघ्न, पवनसुत हनुमान और जय श्रीराम के जयकारे लगाते और भजनों पर झूमते रामभक्त। बुधवार को लक्ष्मण नगरी के अलीगंज इलाके में कुछ ऐसा ही नजारा देखने को मिला। मौका था लखनऊ उत्तर भाग द्वारा निकाले गए भव्य शोभायात्रा और श्रीरामलला स्वरूप के दिव्य दर्शन का।

अयोध्या में बने भव्य मन्दिर में आगामी 22 जनवरी को होने वाले प्रभु श्रीराम के प्राण-प्रतिष्ठा को लेकर हर ओर उल्लास का माहौल है और सभी रामभक्ति में डूबे हैं। बुधवार को जहां प्रभु श्रीराम की नगरी अयोध्या में भगवान श्रीराम के विग्रह की भव्य शोभायात्रा निकाली गयी। वहीं भ्राता लक्ष्मण की नगरी लखनऊ में भी अयोध्या का नजारा देखने को मिला। लखनऊ उत्तर भाग के नौ अलग-अलग नगरों के 7 से 14 वर्ष तक के बच्चें भगवान राम के स्वरूप में गाजे-बाजे के साथ रामभक्तों संग सेक्टर-“क्यू” अलीगंज में स्थित सरस्वती विद्या मन्दिर में एकत्रित हुए। जहां आयोजित कार्यक्रम में दीप प्रज्ज्वलन के उपरान्त शुभम ने मंच का परिचय कराया।

“ठुमक-ठुमक चलत रामचन्द्र’’ पर प्रस्तुत लघु नाटिका सरस्वती विद्या मंदिर के भइया बहनों द्वारा प्रस्तुत किया गया। जिसके पश्चात सरस्वती बालिका विद्या मंदिर जानकीपुरम के बच्चों ने लवकुश काण्ड पर आधारित नृत्य नाटिका व गायन की प्रस्तुति से सभी को त्रेतायुग की याद दिला दी। जिसमें रिया, दिव्यांशी, खुशी, अस्मिता, सुची, मुस्कान, विहान वर्मा, अक्षिता कश्यप, अनुकृति त्रिवेदी, अनन्या प्रजापति, वरुण तिवारी, आर्या श्रीवास्तव, श्रेया सिंह, रिया पाण्डेय, देवांश श्रीवास्तव, दिव्यांशी मिश्रा, आरुषी बाजपेई, यशस्वी यादव, कृष्णा मिश्रा, एकांश, जीत भारती, अर्णव कुमार, शाश्वत कुंज मिश्रा, कौशलेंद्र कुशवाहा, वंश गौतम सहित अन्य बच्चों ने बखूबी किरदार निभाया। पूर्वी उत्तर प्रदेश के सह संघ चालक रामकुमार, पूज्य संत कौशिक चैतन्य जी महाराज का आशीर्वचन भी प्राप्त हुआ।

जिसके पश्चात शुरू हुई भव्य शोभायात्रा में रथों, रिक्शा, ई रिक्शा पर सवार प्रभु श्रीराम, माता सीता, लक्ष्मण, भरत, शत्रुघ्न, पवनसुत हनुमान का रूप धारण किये बच्चे आकर्षण का केंद्र रहे। बच्चे हो, बड़े हो, बुजुर्ग हो या महिलाएं, हर किसी में प्रभु श्रीराम के बालरूप के दर्शन करने का उत्साह दिख रहा था। जगह-जगह रामभक्तों ने आरती व पुष्पवर्षा कर शोभायात्रा का भव्य स्वागत किया। हर कोई इस अदभुत क्षण को मोबाइल में कैद करने के लिए उत्साहित दिखा। भव्य व दिव्य रामस्वरूप के दर्शन कर रामभक्त धन्य हो गए।

शोभायात्रा में ‘‘जयश्रीराम’’ के नारे और ‘‘श्रीराम जय राम जय जय राम’’ गीत की गूँज पूरे समय होती रही। राम भजनों पर रामभक्त झूमते नजर आए। ऊँट, घोड़ों के साथ-साथ रथों में सवार प्रभु श्रीराम के स्वरूप बच्चों को बैठाकर घुमाया गया। शोभायात्रा में प्रभुराम के जीवन चरित्र से सम्बन्धित विभिन्न झांकियां सभी के आकर्षण का केंद्र रहीं।

सरस्वती विद्या मंदिर से शुरू हुई शोभायात्रा सेक्टर-“क्यू” चौराहा, बेलीगारद चौराहा, पुरनिया चौराहा सहित विभिन्न क्षेत्रों से होते हुए वापस सरस्वती विद्या मंदिर में पहुंचकर सम्पन्न हुई। कार्यक्रम संयोजक आत्रेय त्रिपाठी ने बताया कि शोभायात्रा में भगवान राम की प्रेरणा से उत्तर भाग के नौ नगरों व श्रीराम एकेडमी गौरभीट, संतराम गॉडसे विद्यालय शुक्ला चौराहा, आर्यकुलम विद्यालय के बच्चे भी शामिल हुए। 

कार्यक्रम में वरिष्ठ कारसेवक गणेश, डॉ. विश्वजीत, उमेश गुप्ता, अभिषेक मोहन, भाग प्रचारक सतीश, विद्यालय के प्रबन्धक डॉ. शैलेश मिश्र, कोषाध्यक्ष सचिन गुप्त, नगर के अन्य विद्यालयों के आचार्य के अलावा अजीत सिंह बागी, मनोज सिंह, रामप्रकाश, चंद्रभूषण यादव सहित सैकड़ों रामभक्त मौजूद रहे।