Tuesday , March 5 2024

नन्द के घर आनंद की तैयारी में जुटा श्रीमाधव मन्दिर, जाने जन्माष्टमी का शुभ मुहूर्त

गृहस्थ 6 वही वैष्णो भक्त 7 सितंबर को मनाएंगे श्रीकृष्ण जन्माष्टमी

6 सितंबर को जन्माष्टमी पर मिलेगा रोहणी नक्षत्र संयोग

लखनऊ (टेलीस्कोप टुडे संवाददाता)। डालीगंज स्थित श्रीमाधव मन्दिर के पुजारी लालता प्रसाद बताते है कि इस साल भाद्रपद कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि 6 सितंबर, दोपहर 3 बजकर 37 मिनट से शुरू हो रही है और अगले दिन यानी 7 सितंबर को शाम 4 बजकर 14 मिनट पर खत्म होगी। इसके अलावा 6 सितंबर को सुबह 9 बजकर 21 मिनट पर रोहिणी नक्षत्र आरंभ होगा और 7 सितंबर के दिन 10 बजकर 25 मिनट पर इसकी समाप्ति हो जाएगी मान्यतानुसार श्रीकृष्ण का जन्म रोहिणी नक्षत्र में हुआ था इस चलते 6 सितंबर के दिन ही कृष्ण जन्माष्टमी मनाई जाएगी। इस दिन पूजा का शुभ मुहूर्त रात 11 बजकर 47 मिनट से शुरू होकर 12 बजकर 42 मिनट तक है। 

शास्त्रों में विधान है कि सोमवार या बुधवार का दिन भाद्रपद अष्टमी तिथि होती है तो उस दिन जन्माष्टमी का व्रत रखना गृहस्थों के लिए विशेष रूप से लाभदायक रहता है। इस बार विशेष संयोग ऐसा बना है कि अष्टमी तिथि के साथ रोहिणी नक्षत्र का भी संयोग रहेगा। ऐसे में 6 सितंबर को गृहस्थों और आम जनों के लिए जन्माष्टमी का व्रत रखना विशेष फलदायी रहेगा।

कार्यक्रम संयोजक अनुराग साहू ने बताया कि श्री माधव मन्दिर में श्री कृष्णा जन्माष्टमी उत्सव बड़ी धूमधाम से मनाया जाएगा। 6 सितम्बर सांय 7 बजे से सांस्कृतिक कार्यक्रम का प्रसारण एफबी पेज से घर बैठे देख सकेगे। श्री राधामाधव के श्वेताम्बर बनारसी वस्त्रों, चाॅदी के मुकूट धारण किये आलौकिक दर्शन व जन्म से पहले दक्षिणावर्त (लक्ष्मी) शंख से भगवान श्रीकृष्ण का पंचाभिषेक अभिषेक के साथ भव्य महाआरती का दर्शन कर सकेगे। 

उपाध्यक्ष भारत भूषण गुप्ता ने बताया कि इस बार देशी विदेशी फूलों का श्रृंगार के साथ पूरें मन्दिर परिसर में एलईडी, तेजर लाइटो व इलेक्टानिक झालरो से जगमागता श्री माधव मन्दिर बाहर का परिसर तथा आनंद जन्म उत्सव की थीम पर 5000 गुब्बारें का डेकोरेशन बच्चों व लोगो को अपनी ओर आकर्षित  करेगा। जन्म से पहले रात्रि 9बजे से दक्षिणावर्त (लक्ष्मी) शंख से भगवान श्रीकृष्ण का मंत्र उच्चरण के साथ अभिषेक करेगे। 

इस जन्मोत्सव को भव्य बनाने के लिए श्री राधामाधव सेवा संस्थान के सदस्य बिहारी लाल साहू, भारत भूषण गुप्ता, धनश्याम दास अग्रवाल, माया आनंद, श्यामजी साहू, ओमकार जायसवाल, राकेश साहू, दिनेश मेघदूत अग्रवाल, दीपक महरोत्रा, संजय जयसवाल, अनुराग साहू भी लगे है।