Wednesday , May 29 2024

टीपीएसडीआई ने ग्रीन जॉब स्किलिंग के साथ भारत के युवाओं को बनाया सशक्त

टीपीएसडीआई ने विश्व युवा कौशल दिवस पर 2 लाख छात्रों को प्रशिक्षित करने की हासिल की उपलब्धि

एजेंसी। डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट (टीपीएसडीआई) ने बिजली क्षेत्र के लिए अत्यावश्यक और ग्रीन जॉब स्किल्स में 2 लाख छात्रों को सफलतापूर्वक प्रशिक्षित करने की महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल करने की घोषणा की है। अत्याधुनिक कौशल संवर्धन संस्थान, टीपीएसडीआई, कंपनी के ‘सस्टेनेबल इज अटेनेबल’ मिशन के अनुरूप, नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र से संबंधित नौकरियों पर विशेष ध्यान देने के साथ युवाओं और व्यक्तियों को रोजगार योग्य कौशल के साथ सशक्त बनाने में एक प्रेरक शक्ति रहा है। 

विश्व युवा कौशल दिवस प्रतिवर्ष 15 जुलाई को मनाया जाता है। संयुक्त राष्ट्र द्वारा युवाओं को रोजगार, सम्मानपूर्ण कार्य और उद्यमिता के लिए आवश्यक कौशल प्रदान करने के रणनीतिक महत्व को पहचानने के लिए यह दिवस मनाया जाता है। भारत भर में अपने छह प्रशिक्षण केंद्रों के साथ, टीपीएसडीआई ने भारतीय विद्युत क्षेत्र में प्रचलित कौशल के अभाव की महत्वपूर्ण चुनौती को हल करने में उल्लेखनीय प्रगति की है।

जैसे-जैसे स्थायी समाधान और पर्यावरण संरक्षण की मांग बढ़ती जा रही है, ग्रीन जॉब्स का उल्लेखनीय रूप से बढ़ रहा है। टीपीएसडीआई ग्रीन जॉब्स की इस बढ़ती मांग को पहचानता है क्योंकि भारत का लक्ष्य 2070 तक नेट जीरो उत्सर्जन हासिल करना है और भारत के 500 गीगावॉट नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता के लक्ष्य को हासिल करने के उद्देश्य से स्वच्छ ऊर्जा परिवर्तन को बढ़ावा देना है। टीपीएसडीआई देश के सतत विकास लक्ष्यों के साथ स्वयं को जोड़ते हुए और ग्रीन जॉब्स के बढ़ते क्षेत्र में सम्मानपूर्ण कॅरियर के लिए व्यक्तियों को तैयार करते हुए, विशेष प्रशिक्षण और प्रमाणन कार्यक्रम पेश करने के लिए प्रतिबद्ध है।

टाटा पावर के एचआर, सीएसआर और सस्टेनेबिलिटी हेड हिमल तिवारी ने कहा, “टाटा पावर परिवर्तनकारी भविष्य के लिए कौशल और प्रगतिशील क्षमता निर्माण के माध्यम से युवाओं को सशक्त बनाने में विश्वास करता है। हमारे प्रयास हमारे समुदायों के युवाओं को भविष्य के लिए तैयार करने पर केंद्रित हैं। टीपीएसडीआई के माध्यम से, हम एक ऐसा पारिस्थितिकी तंत्र बना रहे हैं जो युवाओं के लिए अत्याधुनिक हरित और स्मार्ट ऊर्जा प्रौद्योगिकियों में केंद्रित प्रशिक्षण को बढ़ावा देता है, जिससे उन्हें लाभकारी रोजगार और उद्यमिता के अवसर प्राप्त हों।”