Saturday , May 25 2024

अपोलोमेडिक्स अस्पताल : जटिल एलोजेनिक ट्रांसप्लांट सहित 6 माह में किये पांच सफल बोन मैरो ट्रांसप्लांट

लखनऊ। अपोलोमेडिक्स अस्पताल लखनऊ ने एक बार फिर नया कीर्तिमान स्थापित किया है। अस्पताल में छह महीने के भीतर पांच बोन मैरो ट्रांसप्लांट (बीएमटी) सफलतापूर्वक किए गए। इसमें से एक जटिल एलोजेनिक ट्रांसप्लांट भी शामिल है। अपोलोमेडिक्स के विशेषज्ञों की टीम ने इन ट्रांसप्लांट को एक चुनौती की तरह लिया और बहुमूल्य जीवन बचाने में जबरदस्त सफलता हासिल की है। 6 महीने में पांच बीएमटी सफलतापूर्वक करना और मरीजों को सर्वोत्तम देखभाल और उपचार प्रदान करने के लिए अस्पताल की अटूट प्रतिबद्धता के लिए एक बहुत बड़ा मील का पत्थर साबित हुआ। टीम के असाधारण कौशल, समर्पण और दृढ़ संकल्प का भी इस उल्लेखनीय उपलब्धि में बड़ा योगदान दिया है।

अस्पताल के मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ मयंक सोमानी ने कहा, “इतने कम समय में इस उपलब्धि को हासिल करने के लिए मैं टीम को हार्दिक बधाई देता हूं। टीम के हर सदस्य की व्यक्तिगत प्रतिबद्धता के बिना ये उपलब्धियाँ संभव नहीं हैं। मुझे टीम की कड़ी मेहनत और समर्पण पर गर्व है और मुझे विश्वास है कि इस प्रकार के असाधारण कार्य से हम राज्य में ही विश्व स्तरीय स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने में सक्षम होंगे।”

हेमेटोलॉजी और बोन मैरो ट्रांसप्लांट के सीनियर कंसल्टेंट डॉ. सुनील दबड़घाव ने एलोजेनिक बोन मैरो ट्रांसप्लांट प्रक्रिया की जटिलता पर अपना दृष्टिकोण भी बताया। उन्होंने कहा, “ये प्रक्रियाएं अविश्वसनीय रूप से चुनौतीपूर्ण हैं और ऐसे ट्रांसप्लांट के लिए अत्यधिक कौशल और विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है। प्रत्येक ट्रांसप्लांट अपनी जटिलताओं के साथ अनूठी चुनौतियों भी प्रस्तुत करता है। हालांकि, पूरी प्रक्रिया की सफलता हर स्थिति और प्रत्येक रोगी के लिए अलग होती है। उन्होंने बताया कि ऐसा ही एक मामला 38 साल की महिला का था। उसे एक्यूट मायलोजेनस ल्यूकेमिया के साथ हमारे सामने पेश किया। कीमोथेरेपी के बाद रोग फिर से शुरू हो गया था और इसे नियंत्रित करने के लिए डॉक्टरों ने मरीज और उसके परिवार को बोन मैरो ट्रांसप्लांट के बारे में परामर्श देने का फैसला किया।

जांच के दौरान डॉक्टरों ने पाया कि मरीज में 40 फीसदी ब्लास्ट सेल्स (कैंसर सेल्स) थे। इससे पता चला कि वह हाई रिस्क कैटेगरी में आ गई है। मरीज के लिए उसके सगे भाई में एक आदर्श डोनर मैच मिला, जिसने ट्रांसप्लांट के लिए अपनी स्टेम सेल दान की थी। मरीज को 21 दिनों के बाद छुट्टी दे दी गई। 30वें दिन फॉलो-अप टेस्ट के दौरान हमने पाया कि डोनर सेल 100 फीसदी सक्रिय थी। आने वाले कुछ और महीनों तक रोगी फिलहाल फॉलो-अप में रहेगा। सांख्यिकीय रूप से कहा जाए तो, गैर-घातक स्थिति के लिए एक एलोजेनिक प्रत्यारोपण करने वाले रोगियों से संबंधित डोनर मैच के साथ 70 से 90 फीसदी और एक असंबंधित डोनर के साथ 36 से 65 फीसदी की सफलता दर थी।

डॉ. प्रियंका चौहान (कंसल्टेंट हेमेटोलॉजी – ऑन्कोलॉजी एंड बोन मैरो ट्रांसप्लांट) ने कहा, “दुनिया भर में बोन मैरो ट्रांसप्लांटेशन के आंकड़े बताते हैं कि केवल 30 फीसदी व्यक्तियों के परिवारों में एचएलए-मैचिंग डोनर है। इस बाधा के बावजूद, ये प्रत्यारोपण कई रक्त विकारों के लिए सबसे प्रभावी उपचारों में से एक है। बोन मैरो ट्रांसप्लांट (बीएमटी) भारत में लगातार बढ़ रहे हैं और लगभग 2,500 प्रत्यारोपण सालाना किए जाते हैं। पांच साल पहले ये आंकड़ा 500 से भी कम था। उन्होंने बताया कि वैसे तो देश में बीएमटी केंद्रों की संख्या बढ़ रही है लेकिन यह वास्तविक जरूरत के मुकाबले 10 फीसदी से भी कम है। यह रक्त विकारों के बारे में जागरूकता बढ़ाने और जीवन रक्षक उपचार के रूप में अस्थि मज्जा प्रत्यारोपण के महत्व पर प्रकाश डालता है।”

डॉ. अर्चना कुमार (एचओडी पैडियाट्रिक ऑन्कोलॉजी एंड हेमेटोलॉजी) रक्त विकारों की शुरुआती पहचान के महत्व पर जोर देती हैं। उन्होंने कहा, “शुरुआती निदान रक्त विकारों के सफल उपचार के लिए महत्वपूर्ण है। जो रोगी अपने जोखिम कारकों से अवगत हैं या जो नियमित जांच के लिए अपने डॉक्टरों से मिलते हैं, उन्हें रक्त विकार के कोई भी संकेत होने पर तुरंत विशेषज्ञों के पास भेजा जा सकता है। इसकी प्रारंभिक पहचान ऐसे विकार रोगों की प्रगति को रोकने में मदद कर सकते हैं।” अपोलोमेडिक्स अस्पताल लखनऊ में पांच बोन मैरो ट्रांसप्लांट का सफल समापन एक उल्लेखनीय उपलब्धि है, और टीम उनके समर्पण और कड़ी मेहनत के लिए बहुत प्रशंसा की पात्र है।