Saturday , February 24 2024

फूलों की होली खेलकर एचआईवी संक्रमितों से भेदभाव न करने का दिया सन्देश

लखनऊ। यूपी एड्स कंट्रोल सोसायटी के तत्वावधान में शुक्रवार को पंडित दीन दयाल उपाध्याय राज्य प्रशिक्षण संस्थान में ग्रेटर इन्वाल्वमेंट ऑफ़ पीपल लिविंग विद एचआईवी/एड्स (जीपा) कनवेंशन का आयोजन किया गया। इस दौरान फूलों की होली खेलकर एचआईवी संक्रमितों के साथ किसी भी तरह का भेदभाव न करने का सन्देश दिया गया। अधिकारियों और प्रतिभागियों ने एक-दूसरे के ऊपर रंग-बिरंगे फूलों की बौछार कर गले लगाया और उत्तर प्रदेश को एक स्वस्थ, समृद्ध और भेदभाव मुक्त राज्य बनाने का सपना साकार करने को सभी से आगे आने का आह्वान किया।

इस दौरान कार्यक्रम के मुख्य अतिथि उत्तर प्रदेश राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के अतिरिक्त जिला जज संतोष कुमार ने कार्यक्रम की सराहना करते हुए कहाकि एचआईवी संक्रमित को सरकार द्वारा मुहैया कराई जाने वाली सेवाओं का लाभ अवश्य पहुंचाएं। प्राधिकरण हर जरूरतमंद को कानूनी सहायता प्रदान करने को तत्पर है। प्राधिकरण द्वारा जनपदीय स्तर पर संचालित जिला प्राधिकरण के माध्यम से सभी एचआईवी प्रभावित को कानूनी सहायता दी जाती है और आगे भी यह जारी रहेगी। इस मौके पर कार्यक्रम की विशिष्ट अतिथि महिला कल्याण विभाग की ऋतु भटनागर ने कहा कि एचआईवी संक्रमित महिलाओं और उनसे होने वाले बच्चों को एचआईवी से सुरक्षित बनाना बहुत जरूरी है। आज के बच्चे ही कल का भविष्य हैं। एचआईवी संक्रमित महिलाओं से किसी भी स्थिति में पारिवारिक दुर्व्यवहार नहीं किया जाना चाहिए। उन्होंने प्रतिभागियों को महिला कल्याण विभाग द्वारा चलाई जा रहीं योजनाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी और जरूरतमंदों को विभागीय स्तर से हरसंभव मदद का आश्वासन दिया। 

 कार्यक्रम को प्रमुख रूप से यूपी एड्स कंट्रोल सोसायटी के संयुक्त निदेशक डॉ. एके सिंघल, संयुक्त निदेशक-आईईसी रमेश चन्द्र श्रीवास्तव तथा सामाजिक कार्यकर्ता अमृता सोनी ने संबोधित किया। प्रतिभागियों को महत्वपूर्ण सत्रों के माध्यम से एचआईवी/एड्स के बारे में जानकारी दी गयी। कार्यक्रम के दौरान विभिन्न जनपदों से आए पाजिटिव नेटवर्क संचालक संस्था के प्रतिनिधियों ने भी अपनी बातें रखी और अधिकारियों से अपेक्षाओं पर चर्चा की। कार्यक्रम का संचालन उत्तर प्रदेश राज्य एड्स नियंत्रण सोसायटी के सहायक निदेशक-आईईसी अनुज कुमार दीक्षित ने किया। कार्यक्रम के अंत में प्रतिभागियों को सर्टिफिकेट प्रदान किया गया और सभी वक्ताओं को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से प्रभजोत कौर, शबाना ओबैद, विमलेश, दिनेश यादव सहित विभिन्न जनपदों से आए एआरटी केंद्र के परामर्शदाता,  जनपदों के पाजिटिव नेटवर्क सदस्य, एचआईवी पाजिटिव क्लाइंट समेत करीब 160 लोगों ने प्रतिभाग किया।