Sunday , June 16 2024

सीएसआईआर-सीमैप ने फिक्की-फ़्लो लखनऊ चैप्टर के साथ किया MOU


लखनऊ (टेलीस्कोप टुडे संवाददाता)। सीएसआईआर-केन्द्रीय औषधीय एवं सगंध पौधा संस्थान में फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (फिक्की) फ़्लो, लखनऊ चैप्टर (एमएसएमई यूनिट) के साथ सीएसआईआर-सीमैप द्वारा विकसित हर्बल फॉर्मूलेशन की प्रौद्योगिकी हस्तांतरण के लिए समझौता पर हस्ताक्षर किया गया। इस अवसर पर डॉ. प्रबोध कुमार त्रिवेदी (निदेशक, सीएसआईआर-केन्द्रीय औषधीय एवं सगंध पौधा संस्थान, लखनऊ) ने फिक्की-फ़्लो के पदाधिकारियों एवं सदस्यो का स्वागत करते हुए कहाकि सीमैप एमएसएमई के विकास हेतु प्रतिबद्धय है तथा हमेशा सहयोग करता रहेगा।

डॉ. संजय कुमार (वरिष्ठ प्रधान वैज्ञानिक) ने एरोमा मिशन की गतिविधियो के बारे में बताया तथा औषधीय एवं सगंध फसलों के लाभ के बारे मे भी चर्चा की। डॉ. रमेश कुमार श्रीवास्तव (प्रमुख व्यापार विकास विभाग) ने संस्थान में उपलब्द्ध हर्बल तकनीक तथा उत्पाद के बारे में चर्चा की तथा उनके लाइसेन्स के बारे में भी बताया। फिक्की-फ़्लो, लखनऊ चैप्टर (एमएसएमई यूनिट) की 19 महिला सदस्यों ने विभा अग्रवाल के नेतृत्व में इस बैठक में भाग लिया तथा सीमैप के वैज्ञानिकों तथा निदेशक महोदय कों धन्यवाद दिया।


​इस अवसर पर निदेशक ने सीएसआईआर-सीमैप द्वारा विकसित उन्नत प्रौद्योगिकियों व हर्बल उत्पाद के विषय में जानकारी प्रदान की। जिसका उपयोग कर सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) की बेहतरी के लिए व्यावसायीकरण किया जा सकता है। सीएसआईआर अपने सीएसआईआर-सीमैप के माध्यम से प्रत्येक प्रौद्योगिकी के रूप में अलग समझौते के माध्यम से हर्बल फार्मूलेशनों के प्रौद्योगिकी हस्तांतरण सहित इस समझौते के कार्य क्षेत्र के अनुसार गतिविधि करेगा। यह समझौता फिक्की-फ़्लो सदस्यों के लिए एक वर्ष की अवधि के लिए लागू रहेगा।
​इस अवसर पर फिक्की-फ़्लो के सदस्यों तथा पदाधिकारियों ने संस्थान एवं प्रौद्योगिकी व्यापार इनक्यूबेशन सेंटर – टीबीआईसी का भ्रमण किया।