Sunday , April 21 2024

शासन और पत्रकार मिलकर प्रजातंत्र को मजबूत करें : डिप्टी सीएम

– पारदर्शिता के साथ सकारात्मक खबरे दें पत्रकार

आगरा। उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री बृजेश पाठक ने कहा है कि पत्रकारिता प्रजातंत्र का चौथा स्तंभ है। सत्ता और पत्रकारिता के प्रतिष्ठितजनों को मिल कर दोनों के बीच की दूरी खत्म करके प्रजातंत्र को मजबूत करना होगा। तभी देश और प्रदेश की प्रगति संभव है। उप मुख्यमंत्री ने यह विचार अपने वीडियो संदेश के माध्यम से प्रेस क्लब आफ आगरा और उत्तर प्रदेश जर्नलिस्ट एसोसिएशन के तत्वावधान में बुधवार को आयोजित इंडो-नेपाल-बंगलादेश मीडिया कांक्लेव -2023 में व्यक्त किए। होटल क्लार्क शिराज में आयोजित इस सम्मेलन में भारत, नेपाल और बंगलादेश से 70 से अधिक पत्रकार शामिल हुए। कांक्लेव का विषय था सामयिक परिदृश्य में मीडिया की चुनौतियां और समाधान।

समारोह में बतौर मुख्य अतिथि मौजूद केंद्रीय विधि एवं न्याय राज्यमंत्री प्रो. एसपी बघेल ने कहाकि प्रतिस्पर्धा और टीआरपी के चक्कर में कुछ समाचार आधे-अधूरे या तथ्यहीन प्रसारित और प्रकाशित कर दिए जाते हैं, जिससे समाज पर उसका गलत असर पड़ता है। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार गलत पत्रकारिता के लिए पहले पीत पत्रकारिता शब्द का उपयोग किया जाता था, उसी प्रकार प्रशासनिक अधिकारियों के भ्रष्टाचार को लालफीताशाही शब्द दिया गया। लेकिन अब समय है कि इन सबसे बचाव कर अपने छवि को स्वच्छ बनाए रखें। उन्होंने कहा कि चेहरे पर से धूल तो हटाएं, लेकिन दर्पण में लगी धूल से भ्रमित न हों। उन्होंने तुलसीदास के दोहे को वर्तमान युग के परिप्रेक्ष्य में संशोधित करते हुआ का कि कवि, वैद और पत्रकार यदि भयवश प्रशंसा करता है देश का नाश होता है। लोकतंत्र के चार खंभे में से यदि एक भी कमजोर होगा तो लोकतंत्र खतरे में आ जाएगा। इसलिए पत्रकार पारदर्शिता के साथ अपने कर्तव्यों का पालन करें। किसी भी हालत में लक्ष्मण रेखा पार न करें। उन्होंने कहा कि हम जानते हैं कि नारद जी की तरत्र पत्रकार भी सूचना तो देते ही हैं, पीड़ितजनों को न्याय भी दिलवाते हैं। नेपाल के पत्रकारों का स्वागत करते हुए उन्होंने कहा कि नेपाल देश नहीं, हमारा छोटा भाई है। भाषा, संस्कृति, सभ्यता सभी कुछ नेपाल से हमारा मिलता है।

प्रदेश के उच्च शिक्षा राज्यमंत्री योगेंद्र उपाध्याय ने कहाकि सत्ता और पत्रकार जब समाज के लिए सोचते हैं, तभी समाधान निकलता है। पत्रकार ही जनता को जागरूक करते हैं। पत्रकारिता की जागरूकता का असर हमने आपातकाल में देखा था। जब अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर रोक लगा दी थी तब समाचार पत्रों ने भी आवाज बुलंद करके उसका विरोध किया था। परिणाम स्वरूप तत्कालीन सत्ता को सिमटना पड़ा था। पत्रकार यदि अच्छे मन से काम करें तो वे ही समाज, प्रदेश और देश में परिवर्तन ला सकते हैं।

मुख्य वक्ता अमर उजाला, नई दिल्ली के सलाहकार संपादक विनोद अग्निहोत्री ने आगरा में हुई भारत-पाक शिखर वार्ता की याद को ताजा करते हुए कहा कि यदि वह वार्ता सफल हो जाती तो अभी तक भारत और पाकिस्तान का नक्शा ही बदल गया होता। पत्रकारिता की चुनौतियों की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि बहुत  सतर्कता की जरूरत है। सतर्कता के साथ, तथ्यों को पऱखें और पारदर्शिता रखें, उसके बाद अपने समाचारों को आगे बढ़ाएं। हिंदी पत्रकारिता एक विरासत है, उसे संभालना होगा। उन्होंने कहा कि आज पत्रकारों को एकजुट होना चाहिए। यदि किसी शहर, प्रदेश या देश में किसी पत्रकार के साथ कुछ होता है तो उसकी आवाज बुलंद सभी को करनी चाहिए। पत्रकारिता एक गाय है, जिसका दूध तो सब पीना चाहते हैं, लेकिन पूंछ भी हिलाए तो कहते हैं सींग मार दिया। श्री अग्निहोत्री ने कहा कि किसी को कुर्सी हिलाने के लिए पत्रकारिता न करें। सोशल मीडिया ने अब एकाधिकार छीन लिया है, एसे में बहुत सावधानी की जरूरत है।

उपजा के प्रदेश अध्यक्ष शिव मनोहर पांडे ने कहा कि देहात के पत्रकारों पर कोई ध्यान नहीं देता। उनकी विषम परिस्थितियों पर भी सभी को संज्ञान लेना चाहिए, जिन्हे न उचित पारिश्रमिक संस्थान से मिलता है न समाज से उचित सम्मान। मीडिया पर अंकुश लगाया जा रहा है, पत्रकार औरों की पीड़ा तो लिख सकता है, अपनी नहीं। इसके लिए उचित है कि पत्रकार संगठन मजबूत हों और आपस में अपनी समस्याओं को सुलझाएं।

सार्क जर्नलिस्ट फोरम, काठमांडू-नेपाल के अध्यक्ष राजू लामा ने कहा कि भारत एक ऐसा देश है, जो प्रजातंत्र की जननी है। नेपाल और बंगालदेश में भी प्रजातंत्र भारत से ही आया है। भारत की पत्रकारिता से भी विश्व के कई देश प्रभावित हैं। प्रेरणा लेते हैं, इससे हमें शिक्षा लेनी चाहिए। साउथ एशिया के पत्रकारों को चितंन करना चाहिए। अफगानिस्तान में पत्रकारों को काफी संकट का सामना करना पड़ सकता है। वहां आज भी टीवी पर महिला पत्रकार बुर्के में खबरे पढ़ती हैं। जबकि भारत में पत्रकारों ने लोकतंत्र की रक्षा के लिए हमेशा अग्रिम पंक्ति में आकर लड़ाई लड़ी है। बंगलादेश से आए अब्दुल रहमान ने कहा कि यह आयोजन गौरवशाली रहा है। भारत का प्रजातंत्र भी समृद्धशाली और प्रेरक है, मैं इसे सैल्यूट करता हूं।

वरिष्ठ पत्रकार अरुण त्रिपाठी ने पत्रकार और पत्रकारिता के संकट पर विशेष चिंतन प्रस्तुत किया। उन्होंने कहा कि हर तरह के समाचार भी चाहिए और सुरक्षा भी नहीं मिलेगी, अतः नैतिकता ही पत्रकार का कवच है। उसी को अपनाएं। विख्यात पत्रकार पराड़कर जी ने अमर शहीद राजगुरु को पिस्तोल से निशाना लगाना सिखाया था, लेकिन पराड़कर जी ने कभी पिस्तोल का उपयोग नहीं किया। महात्मा गांधी, नेहरू, अटल, आडवानी आदि भी पत्रकार रहे। सबके बारे में लिखने वाले पत्रकार ने कभी अपने बारे में नहीं लिखा। उन्होंने कहा कि पत्रकारिता तो आती जाती रहेगी, लेकिन समाज यहीं रहेगा। अतः समाज को समृद्ध, सुस्कृत करना होगा, तभी हमारी पत्रकारिता सार्थक होगी। क्लब के उपाध्यक्ष विनीत दुबे, उपसचिव शोभित चतुर्वेदी भी मंचासीन रहे।

 प्रारंभ में स्वागत भाषण प्रेस क्लब ऑफ आगरा के सचिव संजय तिवारी ने दिया। उन्होंने कहा कि पत्रकारिता का सामने चुनौतियां हैं, उनका सभी को सामना करना चाहिए। संचालन करते हुए कोषाध्यक्ष विवेक जैन आगरा की पत्रकारिता और उसकी इतिहास पर प्रकाश डाला। प्रारंभ में अतिथियों का माल्यार्पण क्लब के अध्यक्ष अशोक अग्निहोत्री, वरिष्ठ पत्रकार विनोद भारद्वाज, आदर्श नंदन गुप्ता, जसवीर सिंह जस्सी, शिव चौहान, संजय सिंह, रिंकी तोमर, अजेंद्रा चौहान, मनीष जैन, विजय बघेल, समीर कुरैशी, कपिल अग्रवाल, राजकुमार तिवारी, फरहान आदि ने किया।

इनका किया गया सम्मान

समारोह में अतिथियों के अतिरिक्त सम्मानित होने वालों में वरिष्ठ पत्रकार विनोद भारद्वाज, वरिष्ठ पत्रकार आनंद शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार ओम ठाकुर जे.एस फौजदार, महंत निर्मंल गिरी, स्मिता मिश्रा, डॉक्टर अनिरुद्ध सुधांशु, राजेश गोयल, वीरेंद्र सक्सेना, प्रदीप गोस्वामी, विक्रम पांडे (कासगंज), नजीर अहमद, राकेश चौहान, संजय अग्रवाल, रमेश बाधवा, संजय अरोरा, स्वीटी कालरा, राकेश चौहान, दिगंबर सिंह धाकरे, मो. इरफान, सरदार शर्मा (शाहजहांपुर), संतोष भगवन (संपादक लोकमित्र), प्रदीप शर्मा (अलीगढ), सौरभ उपाध्याय, राजेंद्र तिवारी, दधिबल तिवारी अयोध्या, अनिल विद्यार्थी, हरीश सैनी प्रतापगढ़  राजेश खुराना, गौरव शर्मा (पार्षद), नवीन गौतम प्रमुख हैं। 

इन्होंने किया सम्मान  

रमेश राय, शरद यादव, समीर कुरैशी, कपिल अग्रवाल, विजय पाल बघेल, मनीष जैन, समीर कुरैशी, सुनीत कुलश्रेष्ठ, सुभाष जैन, रिंकी तोमर, संजय सिंह, प्रमोद कुमार अग्रवाल, प्रभाकर सिंह पाल, मुकेश कुमार गुप्ता, ब्रजेश शर्मा, प्रिया जैन, डा.एमसी शर्मा, ध्रुव जैन, डा. यूके शर्मा, अजय शर्मा, ब्रजेश शर्मा, दानिश उमरी, अजहर उमरी, चंद्र प्रकाश, देशदीपक तिवारी, पवित्रा अग्रवाल, डीके शर्मा, जगदीश पुरी, अमीर कादरी, भुवनेंद वार्ष्णेय, असलम सलीमी आदि ने किया।