Friday , June 21 2024

विदेशी सामानों का उपयोग बन्द कर 22 को मनाएं भारतीय नववर्ष – लोकतंत्र सेनानी कल्याण समिति

– चन्द्रशेखर चबूतरा पर सादगी से मना होली मिलन और धीरेन्द्र नाथ श्रीवास्तव सम्मान समारोह

सेनानी तालाब और कुओं को बचाएं और कम से कम पांच पौधे रोपें – विंध्यवासनी कुमार

1977 में जेपी के नेतृत्व में मिली देश को दूसरी आजादी – नवीन श्रीवास्तव

जेपी के रास्ते पर चलकर ही सामाजिक परिवर्तन सम्भव – अनिल त्रिपाठी

लखनऊ। लोकतंत्र सेनानी कल्याण समिति, उत्तर प्रदेश के संयोजक धीरेन्द्र नाथ श्रीवास्तव ने कहाकि जो लोग भारत को समृद्ध और सबल देखना चाहते हैं, वह किसी भी स्थिति में विदेशी सामानों का उपयोग बन्द कर 22 मार्च को भारतीय नववर्ष धूमधाम से मनाएं। उन्होंने लोकतंत्र सेनानियों से अपील की कि वह अपने जीवन का शेष समय राष्ट्रहित के कार्यों के लिए समर्पित करें।

रविवार को चन्द्रशेखर चबूतरा ( दारुलशफा, लखनऊ ) पर लोकतंत्र सेनानी कल्याण समिति के तत्वाधान में होली मिलन और धीरेन्द्र नाथ श्रीवास्तव सम्मान समारोह समिति के प्रदेश अध्यक्ष रामसेवक यादव की अध्यक्षता और गांधीवादी चिंतक राजनाथ शर्मा, समाजवादी योद्धा द्विजेंद्र मिश्र और सहकारिता आंदोलन के दिग्गज नेता चंद्रशेखर सिंह की गरिमामय उपस्थिति में सादगी के साथ मनाया गया। इस अवसर पर समिति ने अपने संयोजक धीरेन्द्र नाथ श्रीवास्तव को अंग वस्त्रम और प्रमाण पत्र देकर विशेष रूप से सम्मानित किया। अन्य साथियों को रंग और गुलाल लगाने की जगह माला पहनाकर होली की बधाई दी गई। 

लोकतन्त्र सेनानी कल्याण समिति के तत्वाधान में आयोजित इस समारोह में मिले स्नेह सम्मान के प्रति आभार प्रकट करते हुए समिति के संयोजक धीरेन्द्र नाथ श्रीवास्तव ने कहाकि इस बार नवरात्र 22 मार्च से शुरू हो रहा है। भारतीय नववर्ष की शुरुआत चैत्र नवरात्रि के पहले दिन होती है। हम सभी भारतीय हैं, इसलिए हम सभी का दायित्व है कि हम सभी लोग 22 मार्च को भारतीय नववर्ष धूमधाम से मनाएं। उन्होंने कहा कि और हो सके तो इस दिन अपने पास पड़ोस के किसी एक आदमी का दुख दर्द बांटने का काम जरूर करें। 

उन्होंने कहा कि जो साथी नवरात्र का व्रत रहते हैं, वह सायंकाल की पूजा के बाद जात पांत से ऊपर नवरात्र के नवोदिन सामूहिक रूप से फलाहार ग्रहण करें और कराएं। उन्होंने कहा कि हम सभी लोग अब ढलती उम्र की ओर हैं। इसलिए जरूरी है कि हम किसी न किसी बहाने एक दूसरे का हालचाल लेते रहें। 

समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित भाजपा के वरिष्ठ नेता पूर्व एमएलसी विंध्यवासनी कुमार ने कहा कि आज धन की राजनीति चारो तरफ प्रभावी है। 1974 में राज्यसभा के चुनाव में इसे रोकने लिए विद्यार्थी परिषद, समाजवादी युवजन सभा और अन्य युवा संगठनों ने मिलकर आंदोलन किया था। इसका मुख्य नारा था, पूंजी के दलालों का – कान नांक काट लो। इस आंदोलन में हम लोगों को महीनों जेल में रहना पड़ा था। इस दौरान धीरेन्द्र जी से मेरी दोस्ती  हुई जो वैचारिक मतभेद के बाद आज भी कायम है। उन्होंने कहा कि धीरेन्द्र जी ईमानदारी केवल लिखते नहीं हैं, उसे जीते भी हैं। उनको सम्मानित कर लोकतन्त्र सेनानी समिति ने एक अच्छा और सराहनीय कार्य किया है। उन्होंने अपील की कि हम लोग जहाँ हैं, वहीं एक कुंआ या एक तालाब या किसी एक बड़ी छोटी नदी का चयन कर लें और उसे बचाने का हर सम्भव प्रयास करें। इसके साथ कम से कम पांच पौधे जरुर रोपें और उन्हें संरक्षित भी करें। 

विशिष्ठ अतिथि के रूप में उपस्थित भाजपा नेता नवीन श्रीवास्तव ने कहा कि धीरेन्द्र नाथ श्रीवास्तव को मैं चार दशक से जानता हूँ। वह ईमानदार सामाजिक जीवन के पर्याय हैं। वह निजी लाभ की बात सोचते भी नहीं हैं। उनका सम्मान ईमानदार सामाजिक जीवन का सम्मान है। इसके लिए लोकतंत्र सेनानी कल्याण समिति और उसके अध्यक्ष रामसेवक यादव की जितनी भी सराहना की जाए कम है। उन्होंने कहा कि 1977 में लोकनायक जयप्रकाश नारायण के नेतृत्व में इस देश को दूसरी आज़ादी मिली। आप सभी लोकतंत्र सेनानी इस लड़ाई के सिपाही रहे हैं। इसलिए मेरी दृष्टि में आप सभी का संघर्ष कल भी सराहनीय था, आज भी है और कल भी रहेगा। 

समारोह में विशिष्ठ अतिथि के रूप में उपस्थित लोकनायक जयप्रकाश नारायण ट्रस्ट, लखनऊ के अध्यक्ष एवं वरिष्ठ पत्रकार अनिल त्रिपाठी ने कहा कि धीरेन्द्र नाथ श्रीवास्तव का जीवन एक ऐसी खुली किताब की तरह है जिसका हर अक्षर ईमान से ओतप्रोत है। उनका सम्मान एक खुली किताब के ईमान का सम्मान है। इस सम्मान के लिए राम सेवक यादव और उनकी समिति को हजार बार प्रणाम। उन्होंने कहा कि इस देश में सामाजिक परिवर्तन जेपी के ही विचारों पर चलने से सम्भव है। इसलिए जेपी के विचारों को जन जन तक पहुंचाना हम सभी का दायित्व है। 

समारोह में लोकतन्त्र सेनानी नरेश कुमार शर्मा, सहदेव सिंह यादव, भीमसेन शर्मा, सत्य प्रकाश आर्य, कृष्ण दत्त पाठक, सुरेंद्र बहादुर सिंह, हरिश्चंद्र राय, राघव जी गुप्त, इंद्रपाल सिंह, राम प्रकाश अवस्थी, लक्ष्मीकांत यादव, फूल सिंह, राधे लाल वाजपेयी और अमर सिंह पटेल आदि काफी सक्रिय रहे। लोकतन्त्र सेनानी कल्याण समिति ने इस अवसर पर विशेष उपस्थिति के लिए अवकाश प्राप्त आईएएस ओपी राय, डाक्टर अरविंद शर्मा, लव कुमार एडवोकेट, पत्रकार अमीर साबरी, पाटेश्वरी प्रसाद, परवेज असलम, फोटोग्राफर प्रमोद यादव, भाजपा नेता राम हृदय राम, समाजिक सेनानी कन्हैया लाल टंडन, संजय गुप्ता, धर्मपाल सिंह चौहान के प्रति व्यक्त किया।