Monday , July 15 2024

बोले सीएम योगी, मैं बिना बुलाए शादी में मेहमान बन गया

सीएम योगी ने किया आह्वान

2024 में मोदी जी को तीसरी बार प्रधानमंत्री पद की कुर्सी सौंपिए,भारत तीसरी बड़ी अर्थव्यवस्था बनेगा

मगहर कबीर महोत्सव के समापन समारोह में पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

360 करोड़ की 114 विकास परियोजनाओं का किया लोकार्पण-शिलान्यास, सांस्कृतिक कार्यक्रमों का भी उठाया लुत्फ

संत कबीर स्थली पर 600 जोड़ों का हुआ सामूहिक विवाह, सीएम योगी ने दिया आशीर्वाद

बोले-जल्द ही करने जा रहे ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी, संत कबीर नगर के युवाओं को भी मिलेगा रोजगार

संतकबीरनगर (टेलीस्कोप टुडे संवाददाता)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि देश बदल रहा है। पीएम मोदी के नेतृत्व में नए भारत में 140 करोड़ लोगों का गौरव बढ़ा है। शक्तिशाली होने पर देश समर्थ होता है। समर्थ होने से समृद्धि आने लगती है। इस समृद्धि को देखते हुए भारत आज दुनिया की पांचवीं बड़ी अर्थव्यवस्था बना है। सीएम ने आह्वान किया कि 2024 में मोदी जी को तीसरी बार प्रधानमंत्री पद की कुर्सी सौंपिए, भारत तीसरी बड़ी अर्थव्यवस्था बनेगा। इसका मतलब हर नागरिक के जीवन में परिवर्तन होना, प्रति व्यक्ति आय बढ़ना। उत्तर प्रदेश में पिछले छह वर्ष में छह करोड़ व देश में 24 करोड़ लोग बहुआयामी गरीबी से ऊपर उठे हैं। सरकार के परिणामस्वरूप बिना भेदभाव शासन की सभी योजनाओं (आवास, शौचालय, आयुष्मान कार्ड, सड़कें, हाइवे, रेलवे, एयरपोर्ट, टू लेन-फोर लेन की कनेक्टिविटी) का लाभ सभी को मिल रहा है। 

सीएम योगी आदित्यनाथ शनिवार को मगहर कबीर महोत्सव-2024 के समापन समारोह में पहुंचे। यहां उन्होंने 360 करोड़ की 114 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण-शिलान्यास किया। संत कबीर स्थली पर 600 जोड़ों के सामूहिक विवाह में पहुंचे सीएम ने उन्हें आशीर्वाद भी दिया। सीएम ने बटन दबाकर इंटीग्रेटेड कमांड व कंट्रोल सेंटर (आईसीसीसी) का शुभारंभ भी किया। सीएम ने सुप्रसिद्ध गायिका स्वाति मिश्रा के भजन के साथ अन्य कार्यक्रमों को भी देखा। 

कबीर के चमत्कार से यह जनपद चमत्कृत हो गया

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कबीर के बगैर मगहर सचमुच नरक है। मध्यकाल के इस महान संत ने इस चुनौती को कबूल किया था, जब मगहर के बारे में मान्यता थी कि यहां जाने पर नरक मिलता है। यह बंजड़ क्षेत्र था। यहां की मिट्टी नमकीन और पानी खारा था, लेकिन उनके चमत्कार ने इसे स्वर्णमयी बना दिया। यहां पवित्र आमी नदी बह रही है। जैसी फसलें सब जगह होती हैं, वैसे ही यहां भी होती हैं। यहां का पानी मीठा हो गया और संत कबीर के चमत्कार से यह जनपद चमत्कृत हो गया। कबीर महोत्सव यहां की पहचान है। 

यूपी में सुरक्षा को प्राथमिकता नहीं देते तो न निवेश होता, न विकास

सीएम ने कहा कि अयोध्या में श्रीरामलला के भव्य मंदिर बनने के उपरांत संतकबीर नगर आने पर 360 करोड़ की परियोजना के लोकार्पण-शिलान्यास का अवसर प्राप्त हुआ है। इनमें सुरक्षा, पर्यटन व आम नागरिक से जुड़ी शिक्षा, स्वास्थ्य, पेयजल आदि से जुड़ी योजनाएं हैं, जो जीवन में व्यापक परिवर्तन का कारक बनती है। यह महत्वपूर्ण क्षण है, जब तकनीक का उपयोग करते हुए हम लोग हर नागरिक को सुरक्षा की गारंटी दे सकते हैं। हमने यूपी में सुरक्षा को प्राथमिकता नहीं दी होती यूपीवासियों के समक्ष 2017 के पहले जैसा पहचान का संकट होता। तब न निवेश होता और न ही विकास। हम सभी पहचान के लिए मोहताज होते। जनता ने भूमिका का निर्वहन किया। डबल इंजन की सरकार आई तो सुरक्षा का बेहतर वातावरण मिला। 

तेजी से अपनी विकास यात्रा को बढ़ा रहा है संतकबीर नगर

सीएम योगी ने कहा कि संतकबीर नगर नया जनपद है, फिर भी यह तेजी से अपनी विकास यात्रा को बढ़ा रहा है। पिछले पांच वर्ष के भीतर यहां पीएम मोदी व राष्ट्रपति का कार्यक्रम लगा। यहां कबीर एकेडमी का निर्माण हुआ। बखिरा ताल का पुनरुद्धार कर इको टूरिज्म का नया केंद्र बनाने की तैयारी रही है। पक्षी बिहार के साथ यहां पर्यटक आ सकें, जिससे स्थानीय लोगों के लिए आजीविका के साधन सृजित हो सकें और यह मनोरंजन व प्रवासी पक्षियों का केंद्र बन सके। मछुआरों के लिए भी मछली पालन के प्रमुख केंद्र के रूप में विकसित किया जा सके। तामेश्वर धाम मंदिर के पुनरुद्धार व पर्यटन विकास को बढ़ाने जा रहे हैं। आने वाले समय में संत कबीर नगर में अपना मेडिकल कॉलेज हो। इसके लिए प्रशासन को निर्देश दिया गया है। बस अड्डे के निर्माण की कार्रवाई बढ़े। इतनी सब सुविधाएं देनी है तो सुरक्षा का माहौल चाहिए। सीएम ने कहा कि आईसीसीसी सुरक्षा का बेहतर माहौल व ट्रैफिक मैनेजमेंट को सुदृढ़ करेगा। संतकबीर नगर में आईसीसीसी बनाने के लिए निधि देने पर सीएम ने जनप्रतिनिधियों को बधाई दी। 

जीआईएस में संतकबीर नगर के लिए भी मिले थे निवेश प्रस्ताव

सीएम ने कहा कि संतकबीर नगर में भी निवेश प्रस्ताव मिले थे, जल्द ही ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी कर इसके माध्यम से शिलान्यास करने जा रहे हैं। इससे संतकबीर नगर के भी हजारों नौजवानों को रोजगार व नौकरी मिलेगी। आमी नदी के उस पार गीडा भी यहां तक फैल चुका है। यहां से भी आपके लिए रोजगार के ढेर सारे अवसर उपलब्ध होंगे। सीएम ने कहा कि लोकगाथा, लोककला, लोक संस्कृति शासन की योजनाओं को अंतिम पायदान पर बैठे लोगों तक जोड़ने के सशक्त माध्यम बनते हैं। सीएम ने अपील की कि बहुत परिवारों के पास पुरानी चीजें पांडुलिपि, तामपत्र होंगे। उन्हें एकत्र कर जिले में उसका केंद्र बनना चाहिए। म्यूजियम बने, जहां इसे संरक्षित किया जा सके और आने वाली पीढ़ी के लिए इसे संजो सके। कबीर एकेडमी इसके संरक्षण में सहयोगी बनेगी। 

इस अवसर पर प्रभारी मंत्री विजयलक्ष्मी गौतम, संतकबीर नगर के सांसद इंजी. प्रवीण निषाद, विधायक अंकुर राज तिवारी, घनघटा विधायक गणेश चंद्र चौहान, मेंहदावल विधायक अनिल त्रिपाठी, पूर्व सांसद इंद्रजीत मिश्र, अष्टभुजा शुक्ला, पूर्व विधायक राकेश सिंह बघेल, भाजपा जिलाध्यक्ष जगदंबा श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे। 

सीएम ने ली चुटकी, मैं बिना बुलाए शादी में मेहमान बन गया

सीएम ने उद्बोधन के दौरान खूब चुटकी भी ली। बोले-मैं देख रहा था कि सामूहिक विवाह में एक गोरखपुर का भी लड़का है। मैंने कहा कि तुमने अपना कार्ड नहीं दिया, लेकिन सरकार की योजना मुझे यहां खींच लाई। मैं बिना बुलाए मेहमान आपकी शादी में शामिल हो गया। सीएम ने पूछा कि किसी की बारात में इतनी संख्या आती है। मुख्यमंत्री, मंत्री, सांसद, विधायक, अफसर समेत समाज का हर तबका भी हैं। इतनी भीड़ मैंने बरात में देखी ही नहीं है, लेकिन सामूहिक विवाह योजना के माध्यम से इन गरीब बालिकाओं के शादी-विवाह के कार्यक्रम पर ईश्वर- संत कबीर की कृपा और डबल इंजन सरकार का प्रभाव है। कबीर महोत्सव के अवसर पर मगहर में मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के अंतर्गत दहेज मुक्त 600 बालक-बालिकाएं दांपत्य जीवन में जुड़ रही हैं। हर जोड़े पर सरकार 51 हजार रुपये खर्च कर रही है।

मुख्यमंत्री ने कबीर की महापरिनिर्वाण स्थली पर बने मंदिर पर चढ़ाई चादर

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को संत कबीर नगर में थे। यहां कार्यक्रम के पहले मुख्यमंत्री संत कबीर की महापरिनिर्वाण स्थली पर गए। उन्होंने यहां पुष्प अर्पित किए और चादर भी चढ़ाई। यहां सीएम के साथ सांसद इंजी. प्रवीण निषाद, कबीर चौरा मठ के महंत विचार दास आदि मौजूद रहे।