Friday , March 1 2024

टाटा पावर 1 लाख करोड़ रुपये मार्केट कैप वाली कंपनियों के एलिट क्लब में शामिल

• यह उपलब्धि हासिल करने वाली इंफ्रास्ट्रक्चर उद्योग की दूसरी और टाटा ग्रुप की छठी कंपनी है टाटा पावर

• इस सप्ताह के दौरान टाटा पावर स्टॉक ने 18% की बढ़ोतरी के साथ 2023 में निवेशकों को 57% रिटर्न दिया है

लखनऊ (एजेंसी/टेलीस्कोप टुडे डेस्क)। भारत की सबसे बड़ी एकीकृत बिजली कंपनियों में से एक, टाटा पावर ने 1 लाख करोड़ रुपये (1 ट्रिलियन) से अधिक मार्केट कैप वाली कंपनियों के एलिट क्लब में प्रवेश किया है। यह उपलब्धि हासिल करने वाली टाटा पावर इंफ्रास्ट्रक्चर उद्योग की दूसरी और टाटा ग्रुप की छठी कंपनी बन गई है। इस स्टॉक ने 2023 में 56.8% रिटर्न दिया है।

आज जब सीओपी28 में, दुनिया की सबसे बड़ी कंपनियां स्वच्छ ऊर्जा परिवर्तन के बारे में विचार-विमर्श कर रही हैं। टाटा पावर ने पहले ही 2.8 गीगावाट की दो पंप हाइड्रो स्टोरेज परियोजनाओं में 13,000 करोड़ रुपये के निवेश के साथ स्वच्छ ऊर्जा उत्पादन का नेतृत्व किया है, जिससे कंपनी को उपभोक्ताओं को चौबीसों घंटे (आरटीसी) नवीकरणीय ऊर्जा प्रदान करने में मदद मिलेगी।

हाल ही में एक विश्लेषक बैठक में, टाटा पावर ने वित्तीय वर्ष 2027 तक 60,000 करोड़ रुपये के कैपेक्स की घोषणा की; जिसका 45% नवीकरणीय क्षेत्र में दिया जाएगा। टाटा पावर के पास वर्तमान में 5.5 गीगावाट का स्वच्छ ऊर्जा पोर्टफोलियो है, जिसे 2030 तक 20 गीगावाट तक ले जाने का कंपनी का लक्ष्य है। वित्तीय वर्ष 2023 में स्वच्छ और हरित ऊर्जा क्षमता को 43% से 68% पर ले जाने का कंपनी का लक्ष्य है। 3.7 गीगावाट क्षमता पहले से ही निर्माणाधीन है। आरई पोर्टफोलियो में मजबूत वृद्धि, ट्रांसमिशन और वितरण परिसंपत्तियों से उच्च लाभप्रदता के साथ-साथ समूह कैप्टिव और सौर रूफटॉप में मजबूत अवसरों के आधार पर वित्त वर्ष 27 तक राजस्व, ईबीआईटीडीए और पीएटी को दोगुना करने की योजना प्रबंधन ने बनाई है।

एक हालिया रिपोर्ट में, जेएम फाइनेंशियल ने टाटा पावर को ‘होल्ड’ से अपग्रेड करके ‘बाय’ कर दिया है और टारगेट प्राइस को 220 रुपये से बढ़ाकर 350 रुपये कर दिया है।