Sunday , March 3 2024

प्रमुख सचिव ने नेताजी सुभाषचंद्र बोस राजकीय महिला स्नातकोत्तर महाविद्यालय का किया निरीक्षण

लखनऊ (टेलीस्कोप टुडे संवाददाता)। राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के प्रभावी क्रियान्वयन एवं उसमें आने वाली व्यावहारिक समस्याओं का धरातल पर हो रहे अनुपालन के उद्देश्य से सोमवार को प्रमुख सचिव उच्च शिक्षा उत्तर प्रदेश शासन एमपी अग्रवाल ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस राजकीय महिला स्नातकोत्तर महाविद्यालय अलीगंज का निरीक्षण किया। उन्होंने महाविद्यालय के समस्त शिक्षकों एवं छात्राओं से वार्ता की और गहराई से राष्ट्रीय शिक्षा नीति के विषय में जानकारी प्राप्त की। महाविद्यालय की प्राचार्य प्रो. अनुराधा तिवारी के नेतृत्व में पीपीटी के माध्यम से महाविद्यालय की गतिविधियों और विशेष रूप से नई शिक्षा नीति के पश्चात विषय चयन एवं विभिन्न पाठ्यक्रमों में आने वाले बदलाव की विस्तृत जानकारी दी।

प्रमुख सचिव ने अपने लगभग दो घंटे के निरीक्षण के दौरान महाविद्यालय में चलाये जा रहे विभिन्न पाठ्येत्तर कार्यक्रमों यथा सीसीसी कोर्स जीएसटी टैली कोर्स  आदि को समझा। डा. श्वेता भारद्वाज द्वारा तैयार किए गए पीपीटी का प्रदर्शन दो हिस्सों में किया गया। शैक्षिक गतिविधियों के बारे में डा. पूनम वर्मा और शिक्षणेत्तर गतिविधियों का वर्णन डा. राजीव यादव द्वारा किया गया। जीएसटी कोर्स के बारे में डा. क्रांति सिंह, सीसीसी के बारे में डा. शरद वैश्य, इग्नु और अभ्युदय के बारे में डा. जयप्रकाश वर्मा ने विस्तार से बताया। महाविद्यालय द्वारा एक भारत श्रेष्ठ भारत, उन्मेष, क्रीड़ा, एनसीसी, एनएसएस तथा रेंजर के विषय में भी प्रमुख सचिव ने उत्सुकता जताई।

उनके साथ विशेष सचिव उच्च शिक्षा गिरिजेश त्यागी, क्षेत्रीय उच्च शिक्षा अधिकारी डा. सुधीर चौहान, रुसा के उप निदेशक डा. संजय दिवाकर, विश्वविद्यालय के प्रोफेसर संजय मेधावी, समिति के सदस्य डा. अवनीश गौतम भी मौजूद रहे। प्रमुख सचिव ने निर्देशित किया कि सभी शिक्षक एनईपी के बारे में अधिक से अधिक जानकारी विद्यार्थियों को दें। ये भी प्रयास किया जाए कि अधिक से अधिक पुस्तकों तक विद्यार्थियों की ऑन लाइन ऐक्सेस हो। प्राचार्य ने प्रमुख सचिव के प्रति आभार व्यक्त करते हुए सभी आगंतुकों का स्वागत किया।